नादानी

IMG_3175

कभी कुछ लिखने की चाहत से दिल ने तुझे याद किया

कभी तेरी कुछ यादों ने कलम की हिमायत ली

मगर, ना सियाही क़ैद कर पायी कोई रंग गुज़रे लम्हों का

ना यादों की आड़ मेँ कोई नज़्म ही मुक़म्मल हुई

दिल और कलम की इस नादानी पे, लोग हसे और काग़ज़ भी

जज़्बातों का तमाशा बना, तारीफ़ हुई अल्फाज़ों की

– कृत्या

3 thoughts on “नादानी

  1. beautiful thought….
    nadaan hai muskurat,
    khoj hi lete hain apni nadaan saheli,
    fir apni hi hasi ki chehchahat mein,
    nadaan phir muskuraleti hain yunhi zindagi ki paheli

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s