कश्मकश

IMG_4391-001.JPG
तू झोंका है या तूफ़ान कोई, इसी कश्मकश में हूँ
तू उन हवाओं में भी है जो माथे को सहलाके, दिल को सुकून दे जाया करती हैं,
तू उन हवाओं में भी है जो मेरी सुलझी हुई दुनिया को, बग़ावत के रंगों से भर जाय करती हैं

 

तू बाराँ का हिस्सा है या मद्द का, इसी कश्मकश में हूँ
तू उन बूंदों में भी है जो मेरी रूखी शामों को मिट्टी की खुशबू से महका जाया करती हैं,
तू उन बूंदों में भी है जो लबरेज़ आँखों से बहकर, रू की रंगत बदल जाय करती हैं

तू आरज़ी है या मुस्तक़िल, इसी कश्मकश में हूँ,
तू उन वादों का ऐतबार भी है, जो ज़िन्दगी के आख़िरत तक निभाए जाते हैं,
तू उन वादों का हबीब भी है, जो न खुद सँभलते हैं ना संभाले जाते हैं.

तू ज़ाहिर है या मस्तूर, इसी कश्मकश में हूँ,
तू वो लफ्ज़ भी है, जिनको समझने में कोई पेंच-ओ-ख़म नहीं होता
तू लफ़्ज़ों के बीच की वो ख़ामोशी भी है, जो बयान होके भी बयान नहीं होती

तू ग़ैर या रफ़ीक़, इसी कश्मकश में हूँ,
तू वो शक्स भी है, जिसकी बातों की अबतरी में खो जाने का हिसास है
तू वो शक्स भी है, जिसकी बाहों के दायरे में हिफाज़त का एहसास है

– कृत्या

(That stormy evening, by the sea, while the city prepared for the much needed change from the ever rising heat, I sat there staring into the horizon, a thousand thoughts racing, what ifs and if onlys, a storm approaching, a storm within, no place to go, no where to hide,  should I embrace the clouds or hold on to the sun, I sat there without a clue, because you were to me both the storm and the sun, you were both chaos and order — this pic reminded me of that stormy evening, the confusion, us! What would life be if I had chosen differently? ) 
-Late summer sunset, Mumbai. 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s