मुंतज़िर

IMG_1980.JPG

सर्द हवाओं से उलझ पड़ते हैं सूनी दरख्तों के ढाँचे
मुसलसल बादलों से लड़ती रहती है जाड़ों की गुनगुनी धूप
दराज़ रातों के बीच अब सिमटते दिन का जैसे दम निकलने लगा हो
तुम आ जाओ या अपने कुछ सुखन लौटते परिंदों के हवाले कर दो
सुना है तुम्हारी आमद से मौसम बदल जाया करते हैं
सुना है तुम्हारी बातों में रातें गुज़र जाया करती हैं
– कृत्या

Weekly Photo Challenge : Against the odds

img_0456

Why a cardinal? The red color of the male cardinals is mesmerizing, especially against a gray and dull winter backdrop, but at the same time I am sure the brilliant red also makes these birds an easy prey for larger birds. Unlike most birds, cardinals do not migrate, and they do not have a winter plumage to blend in with the dull colors. They survive these long dull winters against the odds, don’t you think? 🙂

My entry for this week’s photo challenge : Against the odds

 

Weekly Photo Challenge : Solitude

img_7472-001

Strangers in solitude, but not strangers to solitude.  @ Nauset Beach, Orleans, MA

I was at the beach early morning, all by myself, clicking pictures. She was at the beach early morning, all by herself, collecting rocks. We were in our own ways enjoying solitude, or at least I would like to think so.

My entry for the  weekly photo challenge: Solitude

इंतज़ार (II)

Dec20161-001.jpg

सुनी जाती है हामी भर भर के हमराहों की दास्तान
रिश्तों की, तकरारों की, बनती गिरती सरकारों की
खेलों और खिलाड़ियों की, फिल्मों की कहानियों की
अमन की, लड़ाई की, बढ़ती हुई महँगाई की
मैं भी सग़ीर बातों से, गुफ़्तुगू भर देती हूँ
मेरे चंद नज़रियों को कुछ इत्मिनान हो जाता है
मेरी ख़ामोशी को मगर आज भी, तेरे तवज्जो का इंतज़ार रहता है
– कृत्या

इंतज़ार

img_1453

उबलते पानी के धुंध में, दिन झपकियां लेने लगता है
मेहँदी रची हथेली सा रंग, दूध पे चढ़ने लगता है
किसी बिसरी याद की तरह, चीनी घुल जाया करती है
थका हुआ चमच फिर, तश्तरी पे आराम फरमाता है,
सर्द-मेहरी से हर शाम ये रस्म निभायी जाती है
मेरी चाय की प्याली को पर आज भी, तेरे किस्सों का इंतज़ार रहता है
– कृत्या

Weekly Photo Challenge : Relax

img_4863

The first picture that comes to mind when I hear “relax” is lying down on a sandy beach, a warm day, sky – the perfect shade of blue, soft floating clouds and the soothing sound of breaking waves.  🙂

But then somedays, a patio with enough light to read and enough shade to slip into an afternoon nap, warm sun on the back and  cool water on the side,  a pillow to rest on and a  book to read on .. is more than enough to “relax” 🙂

My entry for the weekly photo challenge: Relax